ATM card : Credit card क्या है? | Debit card क्या है? | डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?

हेल्लो दोस्तों आज हम बात करने वाले है What is meaning ATM card, Credit card, Debit card in hindi के बारे में. आज हम आपको क्रेडिट कार्ड क्या है? डेबिट कार्ड क्या है? क्रेडिट कार्ड पर डेबिट कार्ड में क्या अन्तर है? इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाले है-


Table of Contents

क्रेडिट कार्ड क्या होता है :

credit card or debit card full information in hindiशायद आपको पता ही होगा कि, बैंक में खाता खोलने पर हमें बैंक द्वारा एक कार्ड दिया जाता है, जिसकी मदद से हम कहीं भी कभी भी Card swipe करके बिना नगद के पैसे चुका सकते हैं, और हम एटीएम (ATM card) द्वारा इस कार्ड से पैसे भी निकाल सकते हैं, इसे ही क्रेडिट कार्ड (Credit card) कहते हैं.

क्रेडिट कार्ड के यूज़ से आप कहीं भी उधार खर्च कर सकते हैं, जिसका बिल आपको उस महीने के अंत या एक निश्चित समय अवधि तक भरना होता है. इस तरह आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके खर्च किये गए पैसे को credit card loan भी कह सकते है और यह उधार लिए गए पैसे का ब्याज बैंक तय करती हैं.


Credit card का अर्थ :

क्रेडिट कार्ड प्लास्टिक या मेटल का कार्ड होता है जो फाइनेंशियल संस्था (financial institution) द्वारा जारी किया जाता है, जो कि खरीदने व फ्री अप्रूवल लिमिट फंड से उधार लेने की सुविधा देता है.

मार्केट में कई क्रेडिट कार्ड अवेलेबल है, जो आपको प्राप्त होते हैं कार्ड जारी करने वाली कंपनी द्वारा आपके क्रेडिट स्कोर और हिस्ट्री के आधार पर कार्ड की लिमिट प्रदान करता है.



क्रेडिट कार्ड  के प्रकार : (Types of credit card)

बाजार में बहुत से क्रेडिट कार्ड उपलब्ध है, जो आपको कई प्रकार से लाभ देते हैं. आपको शॉपिंग कार्ड से लेकर यात्रा कार्ड तक जैसी विभिन्न आवश्यकताओं के लिए यह कार्ड उपलब्ध कराता है, इसके बहुत से प्रकार है-

(1). ट्रैवल क्रेडिट कार्ड (travel credit card)-

आप इस कार्ड की मदद से सभी एयरलाइन टिकट बुक करा सकते हैं, साथ ही ट्रेन , कैब और बस जैसी ट्रैवलिंग पर भी टिकट्स मतलब की सीट बुक करा सकते हैं, और बुक कराने पर आपको विशेष लाभ का फायदा भी मिलता है, जिसे रिवार्ड्स कहते हैं. आप के टिकट्स बुक कराने पर आपको रिवार्ड्स मिलता हैं.

(2). Fuel credit card-

इस क्रेडिट कार्ड की मदद से सरचार्ज छूट लाभ उठा सकते हैं, और कुल परिवहन लागत को कम कर सकते हैं और यह रिवार्ड्स प्राप्त करने में मदद करता है.

(3). Rewards credit card-

हिंदी में इस क्रेडिट कार्ड को ‘ पुरस्कार क्रेडिट कार्ड’ भी कहते है. इस प्रकार के क्रेडिट कार्ड में विशिष्ट खरीद और ट्रांजैक्शन पर रिवॉर्ड पॉइंट मिलते हैं, वह भविष्य में की गई खरीदारी की छूट के लिए रिडीम देता है.

(4). शॉपिंग क्रेडिट कार्ड-

Shopping credit card से आप खरीददारी या ट्रांजैक्शन पर लाभ उठाने के लिए कार्ड से ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीददारी पर कैशबैक, डिस्काउंट, वाउचर जैसे लाभ उठा सकते हैं.

(5). सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड-

यह secured credit card पर आप आकर्षक ब्याज दरों से डिपाजिट कर एक सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड का लाभ उठा सकते हैं व अपना रिवॉर्डस को बढ़ा सकते है.



डेबिट कार्ड क्या होता है : (What is Debit card in hindi)

Debit card जिसे बैंक कार्ड , चेक कार्ड के नाम से भी जाना जाता है, यह भी एक प्लास्टिक से बना हुआ कार्ड है, जिसका यूज खरीदारी करते समय भुगतान के रूप में किया जाता है. कार्यात्मक रूप से इसे इलेक्ट्रॉनिक चेक(electronic check) भी कह सकते हैं.
 
एटीएम में 24 घंटे बैंकिंग सुविधा है, जिसमें नगदी निकासी, बैलेंस जानकारी, मोबाइल रिचार्ज, आदि लाभ प्राप्त होते हैं, उसी प्रकार से डेबिट कार्ड भी होता है, डेबिट कार्ड केवल बैंक खाता धारक को ही जारी किया जाता है जो कि बहुत से उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए डेबिट कार्ड का यूज करते हैं.


डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के नियम : (Debit card and credit card Rules)

क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड को सुरक्षित करने के लिए आरबीआई ने एक न्यू गाइडलाइन जारी की है जो कि 10 अक्टूबर 2020 से लागू हो चुकी है तो आइए देखते हैं डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के नियम क्या है-

  • डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड केवल घरेलू ट्रांजैक्शन के लिए इनेबल होगा.
  • डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड को बैंक द्वारा इश्यू करते समय एटीएम और पॉइंट ऑफ सेल डिवाइस पर इनेबल किया जाएगा, अगर कस्टमर इंडिया के बाहर अपना क्रेडिट कार्ड यूज़ करना चाहते है तो उन्हें बैंक सुविधा के लिए रिक्वेस्ट करनी होगी.
  • बैंक रिस्क परसेप्शन के आधार पर डीएक्टिवेट कर सकेंगे.
  • डेबिट क्रेडिट कार्ड के लिए जारी करने वाले बैंक रिस्क परसेप्शन के आधार पर उन्हें डीएक्टिवेट कर सकते हैं.
  • यूज़ नहीं करने पर कार्ड डिसेबल हो जाएगा.
  • आरबीआई की गाइडलाइन में कहा गया है, कि दूसरी गाइडलाइन जारी करने वाली कंपनियों से उन सभी डेबिट और क्रेडिट कार्ड की ऑनलाइन पेमेंट सर्विस को डिसेबल करने को कहा है, जिसे कभी भी इंटरनेशनल तौर पर यूज नहीं किया जा सकता.
  • आरबीआई गाइडलाइन के अकॉर्डिंग कार्ड यूजर ऑनलाइन इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन के लिए अपनी प्राथमिकता को रजिस्टर करवाएंगे जिनके जिसमें opt in , खर्च की सीमा और दूसरी सेवाएं भी शामिल है.
  • कार्ड यूजर अपने कार्ड के लिए ट्रांजैक्शन लिमिट डाल सकते हैं ट्रांजैक्शन लिमिट को स्विच ऑन या ऑफ करने और बदलने का एक्सेस सभी उपलब्ध चैनल के जरिए रहेगा, जिसमें मोबाइल एप्लीकेशन, इंटरनेट, बैंकिंग, एटीएम आदि शामिल है.
  • बैंक कार्ड को near-field कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी के आधार पर भी जारी करते हैं, जिसमें एनएफसी फियर को इनेबल डिसएबल करने के फीचर उपलब्ध है.



डेबिट कार्ड के प्रकार : (Type of Debit card)

आजकल लोगों के लिए डेबिट कार्ड बहुत जरूरी हो गया है, क्योंकि आज के समय में अगर आप कहीं बाहर जा रहे है कैश लेकर जाना सुरक्षित नहीं होता है, ऐसे में डेबिट कार्ड हमारा साथी बन सकता है वर्तमान में बहुत तरह के डेबिट कार्ड है-

रुपे डेबिट-

ये डेबिट कार्ड NPCI  के तहत जारी किया गया है जो कि भारत में संचालित होता है और ट्रांजैक्शन को सिक्योर बनाता है जिस पर लोगों को अतिरिक्त शुल्क भी नहीं देना पड़ता है

वीजा डेबिट कार्ड-

visa debit card अमेरिका द्वारा संचालित कार्ड है जो अंतरराष्ट्रीय ट्रांजैक्शन में भी काम आता है, जिस पर एक निश्चित राशि देनी होती है.

मास्टर कार्ड-

मास्टर कार्ड का यूज विदेशों में भी होता है,एक अमेरिका द्वारा संचालित कंपनी है जिसका यूज 210 जगह पर किया जाता है.

मेस्ट्रो डेबिट कार्ड-

Maestro Debit Card यह भी एक इंटरनेशनल कंपनी है जिसकी शुरुआत 1992 में हुई इस कार्ड को जारी करने का अधिकार बैंक के पास होता है.

कॉन्टैक्टलेस डेबिट कार्ड-

contactless debit card इस कार्ड का यूज पीओएस टर्मिनल ओपन किया जाता है इस डेबिट कार्ड से डिजिटल पेमेंट सिक्योर रहता है जो की कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए सही है.


क्रेडिट और डेबिट का मतलब : (what is meaning of credit and debit card in hindi)

डेबिट का अर्थ है काटना जबकि क्रेडिट का अर्थ है जमा होना।

जब किसी खाते से कोई अमाउंट कटता है या पैसा निकलता है तो उसे डेबिट कहते हैं. जबकि किसी खाते में कोई भी अमाउंट जमा होता है या फिर जमा कराया जाता है तो उसे क्रेडिट कहते हैं.


डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है : (What is the difference between debit card and credit card)

  • क्रेडिट कार्ड से बहुत से लाभ जैसे कैशबैक गिफ्ट वाउचर, लॉयल्टी प्वाइंट्स आदि प्रोवाइड करते रहता है लेकिन डेबिट कार्ड ऐसे लाभ नहीं के बराबर आयोजित करता है.
  • क्रेडिट कार्ड यूजर को एक ब्याज शुल्क का भुगतान करना जरूरी होता है, जबकि डेबिट कार्ड यूजर के लिए कोई ब्याज दरें नहीं होती है.
  • क्रेडिट कार्ड पूरी दुनिया में यूज किए जाते हैं, जबकि डेबिट कार्ड सिर्फ आपके देश में ही स्वीकार किए जाते हैं.
  • क्रेडिट कार्ड आपको बिना किसी बैंक के चक्कर कटवाए रकम उधार दिलवा देता है, जबकि डेबिट कार्ड में ऐसा कुछ नहीं होता.
  • क्रेडिट कार्ड द्वारा आपको बैंक से कुछ समय के लिए रकम उधार मिलती है, वो भी कुछ ब्याज दरों की शर्त पर, जबकि डेबिट कार्ड से आप अपने खाते की रकम निकालते हैं.
  • क्रेडिट कार्ड में स्कोर बनाने की मदद मिलती है, लेकिन डेबिट कार्ड में ऐसा कुछ नहीं होता.
  • क्रेडिट कार्ड का यूज़ करके आप EMI को चेंज करके राशि का भुगतान कर सकते है, जबकि डेबिट कार्ड में  एक बार में पूरी राशि का भुगतान करना होता है.
  • क्रेडिट कार्ड एक सुरक्षित दायरे में आता है, जबकि डेबिट कार्ड के लिए यह सुविधा उपलब्ध नहीं है.



____________________




Note- अगर आप भी हमारी वेबसाइट के माध्यम से आपके ऑनलाइन बिजनेस, गुरुकुल affiliate marketing के लिए लीड्स जनरेट करना, कस्टमर लाना , एफिलिएट मार्केटिंग के प्रोडक्ट को प्रमोट करना है, गेस्ट पोस्ट लिखवाना (sponsor post लिखवाना), जैसी सभी सुविधाओं का लाभ लेकर पैसे कमाना चाहते हैं तो कृपया हमें इस ईमेल आईडी पर मेल करें हम आपसे कम से कम चार्ज ऑनलाइन बिजनेस को बढ़ाने में मदद करेंगे.

इसके अलावा आप हमें इंस्टाग्राम पर DM भी कर सकते है-
Instagram- click here

Leave a Comment